Hindi
Saturday 20th of January 2018
code: 81251

सय्यद हसन नसरुल्लाह के भाषण से विश्व में तहलका।

अहलेबैत (अ )न्यूज़ एजेंसी अबना : प्राप्त सूत्रों के अनुसार हिज़्बुल्लाह प्रमुख सय्यद हसन नसरुल्लाह ने आशूरे के दिन अपने भाषण से पूरे विश्व में तहलका मचा दिया। जिसमें बहुत सारी बातें थी, और इस्राइल के लिए कई धमकियां भी।उन्होंने अपने भाषण में यहूदियों और ज़ायोनियों को अलग किया और कहा कि हमारी जंग ज़ायोनियों से है ना की यहूदियों से। इस संबंध में यहूदी रब्बी का कहना था कि सय्यद हसन नसरुल्लाह बहुत गंभीर व्यक्तित्व के हैं। और सच्चाई से समस्याओं के
संबंध में बात करते हैं। वह लेबनान एवं फिलिस्तीन का प्रतिनिधित्व करते हुए बोलते हैं। उन्होंने आगे कहा की 300 साल पहले राजनीतिक आंदोलन हुआ था, जिसमें कहा जाता था कि एक अच्छा यहूदी बनने के लिए जरुरी नहीं है कि दीन के सारे क़ानूनों पर अमल किया जाए। इस आंदोलन का मक़सद एक स्थाई यहूदी देश बनाना था। जबकि धार्मिक यहूदी तौरैत की शिक्षा के अनुसार सरकार नहीं बना सकते, यही वजह है कि इस्राइल में रहने के बावजूद बहुत सारे यहूदी ऐसे हैं जिन्होंने न ही इस्राइली पासपोर्ट लिया है और ना ही उनके पास कोई पहचान पत्र है। इसलिए कि वह ज़ायोनी सरकार को ग़ैरक़ानूनी समझते हैं। जिसकी वजह से उन्हें गिरफ्तार भी किया जा सकता है और टॉर्चर भी किया जाता है। लेकिन हम कुछ कर नहीं सकते हैं, क्योंकि हमारी संख्या कम है। लेकिन जब सय्यद हसन नसरुल्लाह नें हमारा नाम लिया तो हमारी हौसला अफज़ाई हुई, आज की ज़ायोनी हथियार की नोक पर हमें धमकाते हैं कि अगर हमारा साथ ना दिया तो मारे जाओगे। रब्बी ने आगे
कहा कि अगर इस्राइल और हिज़बुल्लाह का युद्ध होता है तो हम इस्राइल का साथ हरगिज़ नहीं देंगे। आखिर में उन्होंने कहा कि मेरी बहुत तमन्ना है कि मुझे हसन नसरुल्लाह के साथ भेंट का सौभाग्य प्राप्त हो लेकिन अभी तक यह संभव नहीं हुआ है। ज़ायोनी बहुत कोशिश कर रहे हैं कि उन्हें यहूदियों का विरोधी क़रार दें जबकि ऐसा नहीं है वह ज़ायोनियों के विरोधी हैं, ना कि यहूदियों के।

user comment
 

latest article

  फ़िलिस्तीनी मीसाईल कर सकते हैं इस्राईल ...
  इंस्ट्राग्राम द्वारा खुल्लम खुल्ला आईएस ...
  ईरानी विदेश मंत्री मॉस्को के दौरे पर।
  अमेरिका सबसे बड़ा शैतान, अपनी शैतानी ...
  समय पर काम आया ईरान, अरब देशों ने दिया ...
  इस्लाम दुश्मन शक्तियाँ ईरान को कमजोर ...
  ईरान के संचार मंत्री का भारत दौरा।
  लीबिया के प्रधानमंत्री व वित्तमंत्री का ...
  आदम खोर नहीं, शेर खोर हैं यहां के लोग!!!!
  सद्दाम भी मध्य पूर्व के नक्शे को बदलना ...